ऑफिस में मंदिर की दिशा किस तरफ होनी चाहिए, खुलते हैं तरक्की के मार्ग

वास्तु शास्त्र के अनुसार, ऑफिस में मंदिर की दिशा बहुत महत्व का स्थान होता है। हमलोग घर में तो पूजा करते हैं लेकिन ऑफिस के अंदर भी मंदिर होना शुभ होता है। लेकिन ऑफिस में मंदिर सही दिशा और जगह पर है, तब यह आपको शुभ प्रदान करता है।

0
665
ऑफिस की मंदिर दिशा
ऑफिस की मंदिर दिशा किस तरफ शुभ होता है?

ऑफिस की मंदिर की दिशा सही होना बहुत आवश्यक होता है। ऑफिस एक ऐसी जगह होती है जहां पर हम काम करते हैं और इससे हमारे जीवन में तरक्की के मार्ग भी बनते हैं। लेकिन क्या हो अगर जिस ऑफिस में आप काम करते हैं वहां पर वास्तुदोष हो तो। ऐसा होने पर आपकी तरक्की के मार्ग में बाधा उत्पन्न होगी। तो आइए आज जानते हैं कि जीवन में तरक्की पाने के लिए ऑफिस में मंदिर की दिशा किस तरफ होनी चाहिए। घर हो या ऑफिस, मंदिर की दिशा दोनों ही जगह बहुत महत्वपूर्ण होता है।

आपका ऑफिस वह स्थान होता है जहां पर आप जीवन के लगभग आधे समय और प्रत्येक दिन का 8 से 10 घंटे का समय बिताते हैं। ऐसे में ऑफिस का वास्तु अनुकूल होना अति आवश्यक हो जाता है। सिर्फ घर में ही नहीं बल्कि ऑफिस में भी वास्तु का असर व्यक्ति के कार्यशैली, व्यवहार और उन्नति पर पड़ता है। ऑफिस से आपको धनलाभ होता है। यह ऐसी जगह होती है जहां पर सभी लोग एक साथ काम करते हैं।

ऑफिस में अलग-अलग परिवेश और अलग-अलग जगहों के लोग होते हैं। सभी की मानसिक स्थिति और व्यवहार तथा कार्यक्षमता अलग-अलग होती है। ऐसे में ऑफिस में पूजा स्थल होने से ऑफिस में काम करने वाले कर्मचारियों के मन कोई नकारात्मक विचार नहीं आते हैं। कर्मचारियों के अंदर काम के प्रति लगन और व्यवहार कुशलता देखने को मिलती है। लेकिन इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि ऑफिस में पूजा स्थल सही दिशा में होना जरूरी है। यदि आपके ऑफिस में कोई वास्तुदोष भी है तो वह दूर हो जाता है।

ऑफिस में मंदिर की दिशा कहां पर शुभ होता है?

वास्तु शास्त्र के अनुसार, ऑफिस में मंदिर की दिशा बहुत महत्व का स्थान होता है। हमलोग घर में तो पूजा करते हैं लेकिन ऑफिस के अंदर भी मंदिर होना शुभ होता है। लेकिन ऑफिस में मंदिर सही दिशा और जगह पर है, तब यह आपको शुभ प्रदान करता है। लेकिन यदि यह दोषयुक्त जगह पर स्थापित है तो आपको हानि हो सकती है। पढ़ें – सपने में किताब देखना- होता है शुभ संकेत लेकिन जानें जरूरी बात

जिस जगह पर ऑफिस में मंदिर होता है, ईश्वर की कृपा से वहां के सभी काम में सही तरीके से और गति से होता है। कोई भी कार्य में बेवजह विलंब नहीं होता है। इसलिए घर हो या ऑफिस मंदिर के लिए सही और उचित स्थान का ही चुनाव करना चाहिए। पढ़ें – घर में किन पौधे को नहीं लगाना चाहिए, कौन सा पौधा होता है अशुभ

वास्तु शास्त्र के मुताबिक, घर की तरह ही ऑफिस में पूजा स्थल को ईशान कोण में ही होना चाहिए। ईशान कोण ऑफिस का उत्तर-पूर्ण दिशा होता है। उत्तर-पूर्ण दिशा में पूजा स्थल का स्थान शुभ माना गया है। यह दिशा पूजा स्थल और ईश्वरीय भक्ति के लिए उत्तम माना गया है। पढ़ें – सपने में शिवलिंग देखना- क्या मिलेगी आपको मुक्ति, जानें संकेत

कई बार ऐसा होता है कि घर या ऑफिस में ईशान कोण में मंदिर की व्यवस्था नहीं हो पाती है तो मंदिर को आप पूर्व दिशा में बनवा सकते हैं। इस दिशा में मंदिर स्थापना से ऑफिस में हमेशा सकारात्मक माहौल रहेगा और आपका व्यापार सही तरीके से चलेगा और आप जीवन में उन्नति करेंगे। लेकिन यहां एक बात का ध्यान रखें कि कभी भी दक्षिण दिशा, पश्चिम दिशा में ऑफिस में मंदिर की दिशा नहीं रखें।