पूजा घर में किस तरह की मूर्तियाँ होती हैं शुभ, जानें कौन सी मूर्ति रखनी चाहिए?

0
1730
पूजा घर में मूर्ति
पूजा घर में मूर्ति के प्रकार

पूजा घर में किस तरह की मूर्ति शुभ होती है और किस तरह की मूर्तियां पूजा घर में नहीं रखनी चाहिए, इसके बारे में आज विस्तार से बात करेंगे। घर में पूजा घर होना बहुत ही आवश्यक होता है। इससे घर में हमेशा सकारात्मक वातावरण बना रहता है। घर के सदस्यों के बीच आपसी तालमेल और घर में खुशियां बनी रहती है।

किसी भी घर में पूजा घर होना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। घर के मंदिर में सुबह शाम दीपक जलाने से मन को शांति मिलती है और जीवन में तरक्की के मार्ग प्रशस्त होते हैं। पूजा घर में मूर्ति का अपना स्थान होता है। हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पूजा घर में किस तरह की मूर्तियां शुभ होती हैं। हमें पूजा घर में किस तरह की मूर्तियां लगानी चाहिए।

यदि हम को मन ही मन रोज श्रद्धा और भक्ति के साथ याद करते हैं, तो यह सबसे उत्तम भक्ति मार्ग माना जाता है। सनातन धर्म में पंचदेव की पूजा का विशेष विधान है। कोई भी पूजा इन पंचदेव को पूजे बिना पूर्ण नहीं माना जाता है। पंचदेवों में गणेश, मां दुर्गा, सूर्य देव, भगवान शिव और हरि नारायण विष्णु हैं। इनकी पूजा सभी प्रकार के कार्यों में होती है।

घर में किसी प्रकार का वास्तु दोष उत्पन्न ना हो इसके लिए हमें घर में पूजा स्थल जरूर बनवानी चाहिए। घर में पूजा स्थल की बात करें तो यह ईशान कोण में होना चाहिए। ईशान कोण घर का उत्तर पूर्व दिशा होती है। उत्तर पूर्व दिशा में मंदिर बनवाना बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिशा में शौचालय, शयनकक्ष बनवाना शुभ नहीं होता है।

घर में पूजा का एक निश्चित स्थान होनी चाहिए। शयनकक्ष में पूजास्थल नहीं बनवाना चाहिए। इसके अलावा पूजा घर में कितनी मूर्तियाँ होनी चाहिए, इसका भी खास ध्यान रखना चाहिए। पढ़ें- घर के मंदिर में भगवान की प्रतिमा कितनी बड़ी रखनी चाहिए, जानें

पूजा घर में किस तरह की मूर्ति रखें?

पूजा घर में दो शालिग्राम की मूर्तियाँ नहीं रखनी चाहिए। इसके अलावा दो शिवलिंग, तीन गणेश, दो शंख, दो सूर्य की प्रतिमा भी घर के मंदिर में नहीं होना चाहिए। माँ दुर्गा की प्रतिमा भी एक से ज्यादा नहीं रखनी चाहिए। पूजा घर में माँ दूर्गा की तीन मूर्ति, दो गोमती चक्र इत्यादि को पूजा घर में रखने से परिवार में अशांति फैलती है।

घर में पत्थर, काष्ठ, सोना, चांदी या अन्य धातुओं की बनी हुई मूर्ति ही रखनी चाहिए। यदि मूर्ति रखना संभव ना हो तो आप भगवान की कोई सुंदर सी तस्वीर भी रख सकते हैं।

यदि आपके घर में भगवान की प्रतिमा है तो उनकी रोज ही पूजा करनी चाहिए। घर में भगवान की मूर्ति सिर्फ सजावट के लिए नहीं लाएं। घर में मौजूद प्रतिमा का सम्मान करें और उनकी नियमित पूजा करें और सुबह-शाम दीपक भी जलाएं। ऐसा करने से घर-परिवार में सुख-शांति बनी रहती है।